शहर

Published by Prem Das Sharma

August 15, 2020

इंसान की नहीं,
यहाँ,
हैसियत की क़दर है

लौट चल गाँव

ये तो
मशीनों का शहर है

Recently Published:

ग़ज़ल

जो राह-ए-मुहब्बत न नज़र आई ज़रा और
छाई दिल-ए-माायूस पे तन्हाई ज़रा और

read more

Writer’s Block

Despite being a constant juggler of different roles that I play in my day-to-day life, the only thing I can really identify myself with is, being a writer.

read more

1 Comment

  1. Avatar

    शहरी जीवन की संवेदनहीनता और यांत्रिक अस्तित्व का यथार्थ चित्रण

    बहुत गहरा कहा प्रेम जी

%d bloggers like this: