अनन्त

Published by Rudra

August 14, 2020

जो परिभाषित नहीं हो सकता


वही अनन्त है

फ़िर प्रेम हो

…………या ईश्वर

Recently Published:

नारी

मुझे मेरी उङान ढूँढने दो।
खोई हुई पहचान ढूँढने दो।

read more

0 Comments

%d bloggers like this: