निशानी

Published by Shankar Singh Rai

August 14, 2020

वो दोनों,
जो एक दूसरे से अथाह प्रेम करते थे

सहेज कर रखते थे
एक-दूसरे के तोहफे,
प्रेम की निशानियाँ समझकर

वो दोनों ,

हाँ,
वही दोनों

समाज की बंदिशों से घबरा गए
और उनके प्रेम की असली निशानी
सुबह-सुबह
कचरे के ढ़ेर में आवारा कुत्ते
नोंच-नोंच कर खा गए

Recently Published:

ग़ज़ल

जो राह-ए-मुहब्बत न नज़र आई ज़रा और
छाई दिल-ए-माायूस पे तन्हाई ज़रा और

read more

Writer’s Block

Despite being a constant juggler of different roles that I play in my day-to-day life, the only thing I can really identify myself with is, being a writer.

read more

0 Comments

%d bloggers like this: