ख़ूबसूरत मोड़

Published by Uday Kamath

Uday currently works as the Chief Analytics Officer for Digital Reasoning. He has contributed to many scientific journals and is the author of many top-selling books such as Deep Learning for Natural Language Processing and Speech Recognition, Mastering Java Machine Learning, and Machine Learning: End to End guide. He likes to volunteer his time for music and arts and to teach maths to kids. He is an avowed foodie - balancing his enthusiasm for cooking with a passion for long-distance running. When he has the time, he indulges in his passions for Urdu poetry and Indian classical music. He loves to view poetry and music through the lens of prosody and rhythm, unified by maths.

February 15, 2021

ये भूली बिसरी बातें और यादें उस सफ़र की थी
था मुनफ़रिद मैं राह पर, न चाह मुस्तक़र की थी
न ख़ौफ़ कोई रात का, न आरज़ू सहर की थी
न धूप से कोई थकन, न जुस्तजू शजर की थी
न पास रहनुमा मिरे, न कोई मुन्तख़ब डगर
सुकूत से था मुतम’इन, कमी ज़रूर थी मगर
दिखी मुझे वो अजनबी, वो भीड़ से तज़ाद कुछ
न वक़्त ही थमा, हुई न नब्ज़ इन्जिमाद कुछ
मिली मुझे वो दफ़अतन, मगर कहाँ न याद कुछ
ये भी नही है याद थी उदास वो कि शाद कुछ
अदा में बे-तक़ल्लुफ़ी, थी गुफ़्तगू में सादगी
मुकामले थे आम से, नज़र में थी कुशादगी
न बात कोई वस्ल की, न शौक़ की, न इश्क़ की
न हिज्र की ,न दर्द की, न सोज़ की, न अश्क की
न बातों में कशाकशी, विसाल में रवा-रवी
न धड़कनें हुई थीं तेज़, थी नहीं शिकस्तगी
कभी चुराए गीत हमने दिल-पज़ीर ख़्वाब से
कभी बजाये हमने साज़ ग़म भरे रुबाब से
कभी थे ख़ुश सवाल से, कभी थे ख़ुश जवाब से
न बातें इज़्तिराब की, न जल गए अज़ाब से
न क़ुर्ब की तलब, न जिस्म में तड़प हवस की थी
कि मिल गयी वो डोर आज बस नफ़स नफ़स की थी
असीर था नहीं यहाँ, न गुफ़्तगू क़फ़स की थी
न ज़िक्र इख़्तियार का, न बातें दस्तरस की थी
लगा हमें कि रास्ते का मोड़ था यही सही
वज़ाहतों को भूल कर, रखें कहानी अन-कही
हँसी-ख़ुशी से एक साथ राह को बदल दिया
वो अपनी राह चल पड़ी, मै अपनी राह चल दिया


[मुसतक़र=permanent abode, मुनफ़रिद=alone, मुन्तख़ब=chosen, तज़ाद=different, इन्जिमाद=frozen, दफ़अतन=suddenly, शाद=happy, बे-तक़ल्लुफ़ी=frankness, मुकामले=dialogs, कुशादगी=openness, कशाकशी=dilemma/struggle, रवा-रवी=haste, मुंतशिर=disorderly, रुबाब=instrument, इज़्तिराब=restlessness, अज़ाब=torture, क़ुर्ब=closeness, दस्तरस=access, असीर=prisoner, क़फ़स=cage, नफ़स=soul, वज़ाहतों=explanations]

Recently Published:

जंगल का फूल

पौधे और झाड़ियां तो बगिया की शान हैं,
पर फूलों में ही रहती, बगिया की जान है।

read more

نظم

مختصر کہانی جسکےمختلف جہات
کچھ حسین یادیں ،اک حسین واردات

read more

नज़्म

मुख़्तसर कहानी जिसके मुख़्तलिफ़ जिहात
कुछ हसीन यादें, इक हसीन वारदात

read more

0 Comments

Submit a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: