दावानल

Published by Sanjeev Singh

Sanjeev is a CS graduate, ex-Banker, multilingual, thinker, writer and a poet with a rebellious pen. He writes ideas that sound like poetry, you have never read before.

February 15, 2021

मृत जीव – जंतु – वृक्ष – पत्ते, झर – झर,
गिर रहे प्राणहीन होकर भू पर, शर – शर।
अनल के एक कण से फैला,
विश्वारण्य में एक दावानल।

चर – अचर, निशाचर सब,
जर रहे धूं – धूं कर,
धूम्र की चादरों से ढक गया है – नीलाम्बर,
अस्त हुआ रवि तब, थी भरी दोपहर।

त्राहि – त्राहि, त्राहिमाम्,
गूँजा ये स्वर, चहुंओर,
कर-जोड़, कर रहे हैं सब, प्रकृति वंदन,
हे देव अनल! हो शांत,
हो शांत – ये दावानल।

खोले नेत्र प्रकृति ने,
देखा, जल रहा धूं – धूं कर मैला आँचल,
झम – झम, झर – झर तब बरसाए,
श्वेतांबर से, पावन गंगाजल,
शांत हुआ, तब कानन का वो दावानल,
ऋतु बदली – धुल गया प्रकृति का, वो मैला आँचल।

अब तक थे जो छिपे रहे,
अनल तप से,
भू-गर्भ में जो वीर्य स्वर्ण,
अनल – पवन – पय – भू – अम्बर के फल से,
प्रस्फुटित होंगे, वो वीर्य विपुल।।

©संजीव

Recently Published:

जंगल का फूल

पौधे और झाड़ियां तो बगिया की शान हैं,
पर फूलों में ही रहती, बगिया की जान है।

read more

ख़ूबसूरत मोड़

ये भूली बिसरी बातें और यादें उस सफ़र की थी
था मुनफ़रिद मैं राह पर, न चाह मुस्तक़र की थी

read more

نظم

مختصر کہانی جسکےمختلف جہات
کچھ حسین یادیں ،اک حسین واردات

read more

0 Comments

Submit a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: