Hindi 

ग़ज़ल

जो राह-ए-मुहब्बत न नज़र आई ज़रा और
छाई दिल-ए-माायूस पे तन्हाई ज़रा और

read more

औरत

शर्म से निकले बगैर
औरत घर से नही निकल सकती

read more